Dry body brushing technique and it's benefits in hin

 

Dry body brushing technique / ड्राय बॉडी तकनीक

बेजान त्वचा में डाले नई जान


स्क्रबिंग के जरिए चेहरे के मृत वचन तो आप हटा देती हैं पर पूरे शरीर का क्या ? किसी काम के लिए इन दिनों नई - नई तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसी में एक तकनीक है


खूबसूरत और दमकती त्वचा की ख्वाहिश भला किसे नहीं होती? खासतौर पर वे महिलाएं जो विशेष रूप से अपनी त्वचा का ख्याल रखती हैं। नियमित रूप से फेशियल, क्लींजिंग और बॉडी मसाज






पर क्या सिर्फ बढ़िया स्क्रीन क्रीम लगाने या नियमित बॉडी मसाज लेने से त्वचा की सेहत को सुधारा जा सकता है?

विशेषज्ञ ऐसा नहीं मानते। दरअसल, उनकी हिसाब से त्वचा को किसी भी प्रीमियम मॉइश्चराइजर का भरपूर फायदा देने के लिए बहुत जरूरी है कि समय-समय पर त्वचा को एक्सफोलिएट भी किया जाए। 


ऐसा करने से मृत त्वचा तो हट ही जाती है साथ ही त्वचा अच्छी तरीके से सांस भी ले पाती है। वैसे यह कोई मुश्किल काम नहीं है और घर पर ही इसे आराम से किया जा सकता है। 


इस तकनीक को "ड्राई बॉडी ब्रशिंग" के नाम से जाना जाता है। त्वचा की सेहत के लिहाज से इसके और भी कई एक फायदे हैं।


Dry body brushing kya hai?


ड्राई ब्रशिंग त्वचा को एक्सफोलिएट करने का काम करती है।

इस प्रक्रिया के तहत सबसे पहले शरीर को हल्के हाथ से एक सॉफ्ट ब्रश की मदद से मसाज की तरह रगड़ा जाता है। जैसी त्वचा पर नहीं दिखाई देने वाले अशुद्धियां और मृत त्वचा हट जाती है।

बॉडी ब्रशिंग तकनीक के नियमित इस्तेमाल से त्वचा पर फर्क साफ नजर आता है, क्योंकि इससे शरीर के रक्तसंचार तेज हो जाता है। जिससे त्वचा मुलायम और चमकदार लगने लगती है।



 पर, बॉडी ब्रशिंग के लिए ब्रश का चुनाव करते समय इस बात का विशेष ख्याल रखें कि ब्रश प्राकृतिक और मुलायम बालों का ही बना हो, वह जो त्वचा को कोमलता से साफ करें। 


बॉडी ब्रशिंग में इस्तेमाल होने वाले ब्रश अलग-अलग किस्मों और ब्रिसिल्स के बने होते है, अपनी त्वचा के हिसाब से चुन सकती हैं।


Body brushing technique ke benefits

अपनी त्वचा की देखभाल के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल करने के बहुत से फायदे हैं जिनमें सेल्यूलाइट की समस्या कम करने से लेकर दे बेहतर नींद तक बहुत कुछ शामिल है।


स्ट्रॉबेरी स्किन की छुट्टी:-

अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से वैक्सिंग या सेविंग कराने वाली महिलाएं अक्सर खुरदूरी त्वचा की शिकायत करती है।


 दरअसल, जब बाल त्वचा के अंदर ही बढ़ने लगते हैं और बाहर नहीं निकल पाते तो त्वचा पर जगह-जगह लाल-लाल रैशेज जैसे हो जाते हैं जो देखने में अच्छे नहीं लगते।


ऐसी त्वचा को स्ट्रॉबेरी स्किन कहा जाता है। पर, बॉडी ब्रशिंग के इस्तेमाल से त्वचा के अंदर उग आए बालों के ऊपर स्किन सेल्स हट जाते हैं और स्किन का टेक्सचर भी अच्छा हो जाता है। 


सेल्यूलाइट से आजादी

वजन बढ़ने पर अक्सर जांघ के आस पास की त्वचा ऊबड़ खाबड़ लगने लगती है। जिस पर जगह-जगह डिंपल यानी गड्ढे भी दिखाई देने लगते हैं। इनमें दर्द तो नहीं होता पर देखने में यह अच्छे नहीं लगते। इसे सेल्यूलाइट कहते है।


अअसल में वजन बढ़ने पर फैट सेल्स जगह जगह इकट्ठा होने लगती है पर नियमित बॉडी ब्रशिंग तकनीक का इस्तेमाल करने से इस समस्या को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। बॉडी ब्रशिंग तकनीक का इस्तेमाल करने से इस समस्या को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। बॉडी ब्रशिंग इन फैट सेल्स को त्वचा के नीचे समान रूप से फैलाने में मदद करती है।


बढ़ाए एनर्जी भी 


सखियों के अनुसार ड्राई बॉडी बड़ा सिंह तकनीक इस्तेमाल द्वारा हमारा एनर्जी लेवल में काफी ज्यादा प्रभावित होता है और हम ज्यादा ऊर्जावान महसूस करते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब एक सही दबाव के साथ मसाज बरस के ब्रिसिल्स शरीर पर पड़ते हैं, तो शरीर को आराम की अनुभूति होती है और दिमाग को भी आराम मिलता है। इतना ही नहीं इससे नींद भी अच्छी आती है।


मृत त्वचा से छुटकारा 


हालांकि फेस स्क्रब की तरह ही बॉडी स्क्रब भी मृत त्वचा को हटाकर स्किन की सेहत बेहतर बनाने का काम करती है। पर संवेदनशील त्वचा वाली महिलाओं को एलर्जी के कारण अक्सर बॉडी स्क्रब इस्तेमाल करने में परेशानी होती है।


 ऐसे में Dry body brushing एक बेहतर विकल्प हो सकता है क्योंकि यही स्किन को बिना नुकसान पहुंचाए हैं उसे कोमलता से साफ कर दी है।


कैसे करें ड्राय बॉडी ब्रशिंग का इस्तेमाल/ How to use dry body brushing


1. अपनी त्वचा की प्रकृति के हिसाब से प्रकृति का चुनाव करें। इसमें प्राकृतिक फाइबर ब्रिसिल्स वाले बड़ा सा सबसे बेहतर होते हैं। इसलिए सिंथेटिक ब्रिसिल्स वाली ब्रश ना ही लें तो बेहतर होगा। बाजार में प्राकृतिक फाइबर से बने ब्रिसिल्स वाले ब्रश आसानी से मिल जाएंगे।


2. पैरों से शुरुआत करते हुए हल्का दबाव बनाते हुए ब्रश चलाएं। छोटे छोटे स्ट्रोक बनाते हुए शरीर के हर ब्रश को चलाएं। 


3. जब पूरे शरीर पर ब्रश चला ले तो 10 मिनट तक आराम करें और फिर नहा ले।


4. ब्रश हमेशा हल्के दवाओं के साथ ही चलाएं, वरना त्वचा छिल सकती है और रैशेज पर सकते हैं।


5. ब्रशिंग और स्नान के बाद कोई अच्छी बॉडी क्रीम जरूर लगाएं। इससे त्वचा नर्म और मुलायम बनी रहेगी।


6. हफ्ते में दो बार से ज्यादा इस तकनीक का इस्तेमाल ना करें वरना त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है।


7. यदि त्वचा संबंधी कोई समस्या जैसे एक्जिमा या सोरायसिस हो तो इस तकनीक का इस्तेमाल बिल्कुल भी ना करें।

8. घावों या रैशेज की समस्या होने पर बॉडी ब्रशिंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।



Post a Comment

0 Comments